देवर भाभी की सेक्सी फोटो

ब्ल्यू फिल्म नंगे

ब्ल्यू फिल्म नंगे, मैंने देखा कि वो काले रंग की पैन्टी पहने हुई थी। जैसे ही मैंने उसकी चूत पर हाथ रखा, तो मुझे गीलापन महसूस हुआ। उसकी पैन्टी पूरी तरह भीग चुकी थी और वो पागलों की तरह उत्तेजनावश हरकतें कर रही थी। फिर मैंने एक ही झटके में उसकी पैन्टी को अलग कर दिया। मुझे भी इतना बड़ा लौड़ा देखने की इच्छा हो रही थी। मैंने उसके कच्छे को उतार दिया। उसका फनफनाता हु‌आ काले सांप जैसे लौड़ा मेरे मुँह के सामने खड़ा हो गया। ऐसा लौडा मैंने कभी नहीं देखा था... कम से कम ग्यारह-बारह इंच था या शायद उससे भी बड़ा।

लो , ये खा लो , दो तीन घंटे में आराम मिल जायेगा मैंने दवा की एक खुराक ला कर रज़िया को देते हुए कहा दीदी , जल्दी चलो लेट हो रहे है Aur deedi ko oolta kar diyan ab mein uski gaand maarna chahta thha maine apna lund ghusaya par uski gaand bahut tight thhi. Fir iss darr se ki kahi deedi uth na jaaye maine uske ass fuck karne ka khyaal mann se nikaal diya uske baad maine deedi ko phir se seedha kiya aur phir se

Ab maine meri taraf usko khinch liya aur maine usko kiss karne laga 5 minutes kiss karte karte hi uski sas fulne lagi aur wo kafi uteejit ho gayi. ब्ल्यू फिल्म नंगे पर इतना जल्दी वो कहाँ मानने वाली थी, कहने लगी- आप तो उम्र में मेरे से बहुत बड़े हो, मैं ऐसा कैसे कर सकती हूँ? मुझे बहुत शर्म आती है ऐसी बातों से।

अमरपाली की सेक्सी वीडियो

  1. ओ के ओ के.... लेकिन जल्दी... मुझ से रहा नहीं जा रहा अब.. ये सब कुछ देख कर. लेकिन एक बात है के इस मूवी में तो उस लड़की कि चूत बहुत बड़ी है और मेरी तो बहुत छोटी है और तुम्हारा लंड इतना बड़ा ये कैसे अन्दर जायेगा? मैंने उस से पूछा.
  2. एक माचिस की तिकोनी डिब्बी जीतनी और चीरा तो बस ३ इंच का है जैसे किसी छोटी सी परवल को बीच में से चीर दिया हो ! बड़ी बुर की चुदाई
  3. फिर अनिल ने अपने दोस्त से मिलवाया। उसका नाम सुनील था। सुनील ने मुझे अंदर आने को कहा मगर मैंने सोचा कि सुनील के घर वाले क्या सोचेंगे। इसलि‌ए मैंने कहा- नहीं मैं ठीक हूँ! और फिर अनिल को भी जल्दी चलने को कहा। बूवा.. हाई एक बार सपने मैं (ड्रीम).. बड़ा ही मज़ा आया था आज तक उसे ही याद कर कर के मेरी गीली हो जाती है............
  4. ब्ल्यू फिल्म नंगे...Dekhte hi dekhte usne uski shirt utar di or uske boobs ko upar se hi kiss karne laga. shelly ke gol-2 mote-2 perfect shapr boobs dekh kar mein pagal ho gya. Uski bra me uske mast-2 boobs ubhar-2 kar aa rahe the. आ ईईईइईई मम्मी … आईईईइ…. मरी गई…ओह……..बहार काढने……….. (आ ईईईइईई मम्मी … आईईईइ…. मर गई… ओह… बाहर निकालो ओ ……….) उसने बेतहा सा मेरी पीठ पर मुक्के लगाने चालू कर दिए और मुझे परे धकेलने की नाकाम कोशिश करने लगी।
  5. अम्मी = ओह बेटा तेरे भाई का चार्जर तो में काम में ले रही थी क्यूंकि तेरे अब्बू का चार्जर काम नहीं करता है . साथ ही उसकी रेशमी जाँघों को सहलाते हुए अपने हाथ ऊपर करते हुए उसकी चूचियों पर पहुँचा कर उन्हें मसलने लगा,

రకుల్ సెక్స్ వీడియో

उन्होने कुछ नही कहा. इस पर मैंने उनके एक भारी चूतड़ को थोड़ा सा दबाया. बड़ी मज़बूत और ताक़तवर गांड़ थी बुआ की.

आजकल तो प्रेम पता नहीं किन ख़यालों में ही डूबा रहता है। रात को भी हम जब पति-पत्नी धर्म निभाते हैं तो वो जोश और आतुरता कहीं दिखाई नहीं देती। अब तो बस अपना काम निकालने के बाद वो चुपचाप सो ही जाता है। वरना तो सारी रात आपस में लिपट कर सोए बिना हम दोनों को ही नींद नहीं आती थी। अचानक उनके हाथ मेरी पीठ पर आ गया और और कुर्ती के अन्दर हाथ डाल कर मेरी नर्म पीठ को सहलाने लगे। मुझे लगा यह तंग कुर्ती और चोली अब हमारे प्रेम में बाधक बन रही है।

ब्ल्यू फिल्म नंगे,अब शर्मा अंकल ने मुझे उठा लिया और मुझे बैड पर बिठा कर मेरी सलवार उतार दी। वो मेरी जांघों को मसलने लगे। फिर राठौड़ अंकल ने मेरी पैंटी उतार दी। अब मैं मादरजात नंगी थी... बस पैरों में ऊँची ऐड़ी के सैंडल पहने हुए थे। सिंह अंकल भी मेरे सर की तरफ बैठ गये और मेरे मुँह में शराब डाल कर पिलाने लगे।

मैंने अपने धक्के लगाने चालू रखे। हमारी इस चुदाई को कोई 20 मिनिट तो जरूर हो ही गए थे। अब मुझे लगाने लगा कि मेरा लावा फूटने वाला है।

ओह मेरे बेटे, मैं भी यही चाहती हन, पर तुमसे शादी करके मैं और कहीं जा कर रहना चाहती हूँ जहाँ हमें कोई ना पहचानता हो तू बाहर दूर कहीं नौकरी ढूँढ ले या बिज़ीनेस कर ले मैं तेरी पत्नी बनकर तेरे साथ चलूंगी यहाँ हमें बहुत सावधान रहना पड़ेगा राज पूरा आनंद हम नहीं उठा पाएँगेभारताची सुवर्ण कन्या कोण आहे

मैंने धीरे से पहले तो उसकी पीठ पर फिर उसके नितम्बों पर हाथ फिराया फिर उसकी मुनिया को टटोलना चाहा। अब उसे ध्यान आया कि मैं क्या करने जा रहा हूँ। उसने झट से मेरा हाथ पकड़ लिया और कुनमुनाती सी आवाज में बोली,उईई अम्मा ...... ओह.... नहीं !... रुको ! जिस अंदाज में उसने कहा था उस फिकरे का मतलब तो मैं पिछले चार पांच महीनों से सोचता ही रहा था। अब भी कभी कभी मजाक में वो लंदोईजी कह ही देती है पर सबके सामने नहीं अकेले में.

नहीं गुल अंकल बहुत दर्द हो रहा है. मेरी पह'ले ही फॅट गयी है. छोड़ दो मुझे, मैं तुम दोनों के हाथ जोड़'ती हूँ और किसी को कुच्छ नहीं बोलूँगी. जाने दो मुझे.

और वो लड़का मेरी अम्मी का मुंह चूमता है और अब्बू का लंड भी चूमता है में बहुत ही हेरान थी.ये सब देख कर ...!,ब्ल्यू फिल्म नंगे ‘ओ…. मेरे प्रेम के प्रथम चुम्बन ! मैं तुम्हें अपने हृदय में छुपा कर रखूँगी और अपने स्मृति मंदिर में किसी अनमोल खजाने की तरह सारे जीवन भर संजोकर अपने पास रखूंगी’

News